महाशिवरात्रि पर निबंध ( Essay on Mahashivratri in Hindi )

हमारा देश भारत त्योहारों का देश है | यहाँ होली, दिवाली, दशहरा, पोंगल, महाशिवरात्रि, क्रिसमस, ईद इत्यादि अनेक त्योहार मनाए जाते हैं | हम लोग यह सारे त्योहार धूमधाम से मनाते हैं | जैसा कि आप जानते हैं इस वर्ष 24 फरवरी को महाशिवरात्रि पड़ रही है | हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से यह त्योहार प्रतिवर्ष फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी को अर्थात अमावस्या से एक दिन पहले वाली रात को मनाया जाता है।

ऐसा माना जाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि को भगवान शंकर रूद्र के रूप में प्रजापिता ब्रह्मा के शरीर से प्रकट हुए थे और इसी महाशिवरात्रि ( Essay on Mahashivratri in Hindi ) को भगवान शिव तांडव नृत्य करते हुए इस सृष्टि को अपने तीसरे नेत्र की ज्वाला से भष्म कर देंगे | कई स्थानों पर यह भी माना जाता है कि इसी दिन भगवान शिव का विवाह हुआ था | इन सब कारणों से महाशिवरात्रि की रात हिंदू धर्मग्रंथों में अतिमहत्त्वपूर्ण है |

महाशिवरात्रि के दिन सुबह से ही शिवमंदिर में कतारें लग जाती हैं | लोग जल से तथा दूध से भगवान शिव का अभिषेक करते हैं | जहाँ तक हो सके लोग गंगाजल से शिवलिंग को स्नान कराते हैं | कुछ लोग दूध, दही, घी, शहद और शक्कर के मिश्रण से भी स्नान कराते हैं | फिर उन पर चंदन लगाकर उन्हें फूल, बेल के पत्ते अर्पित किये जाते हैं |  धूप और दीप से भगवान शिव का पूजन किया जाता है | भगवान शिव को बेल के पत्ते अतिप्रिय है | इसलिए लोग उन्हें बेलपत्र अर्पण करते हैं | महाशिवरात्रि ( Essay on Mahashivratri in Hindi ) को रात्री जागरण का भी विधान है | लोग शिवमंदिरों में अथवा घरों में पूरी-पूरी रात जागकर भगवान शिव की आराधना करते हैं | कई लोग इस दिन शरीर और मन को पवित्र करने के लिए उपवास भी रखते हैं | कुछ लोग निर्जल रहकर भी उपवास करते हैं | कई जगह भगवान शिव की बारात भी निकाली जाती है |

महाशिवरात्रि से संबंधित कई पौराणिक कथाएँ भी हैं जो बहुत प्रेरणादाई हैं | ऐसी ही एक कथा में चित्रभानु नामक एक शिकारी का उल्लेख मिलता है | चित्रभानु को महाशिवरात्रि के व्रत का कोई ज्ञान नहीं था | वह जंगल के जानवरों को मारकर अपना जीवन यापन करता था | एक बार महाशिवरात्रि के दिन अनजाने में उसे शिवकथा सुनने मिली | शिवकथा सुनने के बाद वह शिकार की खोज में जंगल गया | वहाँ शिकार का इंतज़ार करते-करते वह अनजाने में बेल के पत्ते तोड़कर घास के ढेर के नीचे ढँके हुए शिवलिंग पर फेंकता जाता | उसके इस कर्म से प्रसन्न होकर भगवान शिव उसका ह्रदय निर्मल बना देते हैं | उसके मन से हिंसा के विचार नष्ट जाते हैं | वह जंगल शिकार करने गया था किंतु एक के बाद एक ४ हिरणों को जीवनदान देता है | उस दिन के बाद से चित्रभानु शिकारी का जीवन छोड़ देता है |

इस कहानी से हमें भगवान शिव की दयालुता का परिचय मिलता है | वे अनजाने में की हुई पूजा का भी फल प्रदान करते हैं | एक हिंसक शिकारी का ह्रदय करुणामय बना देते हैं | इस तरह महाशिवरात्रि ( Essay on Mahashivratri in Hindi ) का त्योहार प्राणिमात्र के प्रति दया और करुणा का संदेश भी देता है | धार्मिक ग्रंथों में ऐसा विधान है कि भगवान शिव की पूजा करने से सारे सांसारिक मनोरथ पूरे हो जाते हैं | नीति-नियम से न हो सके तो साधारण तरीके से पूजा करने पर या सिर्फ उन्हें स्मरण कर लेने पर भी भगवान शिव प्रसन्न हो जाते हैं |

हमारे देश का हर त्योहार हमें इकट्ठा होनें, खुशियाँ बाँटने, और समाज के हित में कुछ करने का मौका देता है | हमें चाहिए कि महाशिवरात्रि के दिन भी हम समाज के हित के लिए अपनी क्षमता के अनुसार कुछ न कुछ अवश्य करे | कई संस्थाएँ इस दिन रक्तदान शिविर का आयोजन करती हैं | तो कई दूसरी संस्थाएँ मुफ्त में भोजन वितरण का प्रबंध करती हैं | कई लोग गरीबों को दान देते हैं | परहित में किये गए यह सारे कर्म, हमें भगवान के ज्यादा करीब ले जाते हैं | हमें भी भगवान शिव से प्रार्थना करनी चाहिए जिस तरह उन्होंने शिकारी चित्रभानु के ह्रदय को निर्मल और पवित्र किया, हमारे ह्रदय को भी उसी तरह निर्मल और पवित्र करे |

2 Comments

  1. armanvarinder February 22, 2017
  2. Arpit June 1, 2017

Leave a Reply