यदि मुझे भगवान मिल जाए

( यह निबंध कक्षा ६ तथा कक्षा ७ के विद्यार्थियों के लिए लिखिओ गई है |)

यदि मुझे भगवान मिल जाए, यह कल्पना सुनने में ही कितनी अच्छी लगती है | यदि यह सच हो जाए तो कितना आनंद आएगा | बचपन से किताबों में जिस भगवान के बारे में पढ़ा, दादा-दादी से जिनके बारे में सुना, मंदिरों में जाकर जिनसे प्रार्थना की, वो भगवान यदि मुझे मिल जाए तो मेरी खुशी का ठिकाना ही नहीं रहेगा |

सबसे पहले तो मैं भगवान से ढेर सारी बातें पूछूँगा जैसे कि वह हमेशा छुपे क्यों रहते हैं ? जिस तरह हम दूसरों को देख सकते हैं उसी तरह उन्हें क्यों नहीं देख सकते ? मैं उन्हें बताऊंगा कि यदि हर कोई उन्हें मेरी तरफ देख पाए तो दुनिया का कितना भला हो जाएगा | आज दुनिया में हर जगह भगवान के नाम पर लडाई हो रही है | यदि भगवान ही सबको दिखाई देने लगे और वो सबकी बातों का जवाब दे दे तो लडाईयों का ये झंझट खत्म | दुनिया में कितनी शांति हो जाएगी | इसके बाद मैं उनसे इस दुनिया के बारे में पूछूँगा | इतनी बड़ी दुनिया उन्होंने क्यों और कैसे बनाई ? और हम लोगों को इतना छोटा क्यों बनाया ? हमारे अलावा उन्होंने कोई और दुनिया भी बनाई है क्या ? यह जानना भी जरुरी है | यदि बनाई हो तो मैं उनसे प्रार्थना करूँगा कि मुझे एक बार उन दुनियाँ की सैर जरूर कराएँ |

इसके बाद मैं भगवान को अपने माँ और पिताजी से मिलाऊँगा | वैसे तो भगवान सब को जानते हैं | उन्हें किसी से मिलने की जरूरत नहीं पर मेरे माँ और पिताजी को उनसे मिलकर बहुत खुशी मिलेगी | इसके बाद मैं भगवान से अपने फायदे की ढेर सारी चीजें माँग लूँगा | मैं भगवान को बोलूँगा कि मुझे दुनिया का सबसे समझदार आदमी बना दो | मेरा कक्षा में हमेशा प्रथम क्रमांक आए | कक्षा में प्रथम क्रमांक आने पर मेरे शिक्षक मुझसे बहुत प्रसन्न रहेंगे | यह सोच कर ही मैं बहुत खुश हो रहा हूँ | इसके बाद मैं भगवान से अपने और अपने परिवार के लिए अच्छी सेहत आवश्यक माँगूंगा | अच्छी सेहत के बिना मनुष्य खुश नहीं रह सकता |

इन सबके बाद मैं भगवान से ऐसी चीज माँगूंगा जो बाकी सब चीजों से जरूरी है | मैं उनसे प्रार्थना करूँगा कि संसार से गरीबी हटा दे | गरीबी के कारण लोगों को कितना कष्ट उठाना पड़ता है | कई लोगों को भूखे रहना पड़ता है | लोग बीमारी के समय अपना इलाज नहीं करा पाते | इसलिए मैं उनसे जोर देकर कहूँगा कि भगवान आप मेरी बाकी कोई बात मानो या न मानो, यह बात जरुर मान लो कि संसार में कोई गरीब न रहे |

अब मैंने भगवान का इतना समय ले लिया है तो उन्हें भी जाना होगा | मैं उनसे प्रार्थना करूँगा कि वो मेरी इच्छाओं को पूरी करें और बार बार मुझसे मिलने आते रहें |

Leave a Reply