बच्चों को मुफ़्त और अनिवार्य शिक्षा का मौलिक अधिकार (Essay on Free and Compulsary Education for Children in Hindi )

भारत सरकार ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत आठवी कक्षा तक के विद्यार्थिओं को परीक्षा में उत्तीर्ण करना अनिवार्य कर दिया है | इससे विद्यालयों के शिक्षा के स्तर पर होनेवाले अच्छे तथा बुरे प्रभावों के बारे में लिखिए |

भारत सरकार ने सन २००९ में नि:शुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा विधेयक संसद में पारित किया था | इस विधेयक के पास होने से १४ वर्ष के कम उम्र के बच्चों को मुफ़्त और अनिवार्य शिक्षा का मौलिक अधिकार मिल गया है। इस विधेयक में एक प्रावधान यह भी है कि आठवी कक्षा तक के किसी भी विद्यार्थी को अनुत्तीर्ण नहीं किया जाएगा |

पिछले कुछ वर्षों में विद्यार्थिओं के बीच प्रतिस्पर्धा तेजी से बढ़ी है | परीक्षा में अच्छे अंक लाने का बहुत ज्यादा दवाब होता है | परीक्षा में असफल होने की वजह से या अपेक्षित अंक न मिलने की वजह से कई विद्यार्थिओं ने आत्महत्या करने जैसा कदम भी उठाया | विद्यार्थिओं पर बढ़ते इस दवाब को कम करने के लिए सरकार को कुछ न कुछ तो करना ही था |

सरकार ने बच्चों पर से असफल होने का दवाब हटाने के लिए शिक्षा नीति में कई परिवर्तन किये | उसमे एक मुख्य परिवर्तन यह था कि आठवी तक के किसी भी विद्यार्थी को परीक्षा में अनुत्तीर्ण न किया जाए | इससे बच्चों के मन से अनुत्तीर्ण होने का भय हट जाएगा | वे ज्यादा स्वच्छंद होकर शिक्षा प्राप्त कर पायेंगे | अनुत्तीर्ण होने से बच्चों में जो हीनभावना आ जाती थी, उसे दूर करने का  प्रयास सरकार ने इस नियम द्वारा किया है |

इस नियम से बच्चों की मानसिकता पर बहुत सकारात्मक प्रभाव पड़ा है | बच्चे पढाई के साथ-साथ खेल-कूद और कला जैसी चीजों पर भी ध्यान दे पा रहे हैं | सिर्फ परीक्षा को ध्यान में रखकर पढने की आदत भी बच्चों में कम हो रही है | शिक्षकों पर भी बेहतर नतीजा देने का दवाब हट गया है | उन्हें विद्यार्थिओं के सर्वांगीण विकास की ओर ध्यान देने के लिए अधिक समय मिल रहा है |

इस तरह हम पाते हैं कि सरकार के इस कदम का विद्यार्थिओं तथा शिक्षकों दोनों को लाभ पहुँचा है | किंतु इसके साथ कुछ नकारात्मक चीजें भी जुडी हुई हैं | कई शिक्षाविदों का मानना है कि इस कानून के कारण शिक्षा का स्तर तेजी से घटा है | विद्यार्थिओं को अब परीक्षा की चिंता नहीं है इसलिए वो पढाई पर बिलकुल ध्यान नहीं देते | उन्हें पता है कि उनका उत्तीर्ण होना तो तय है | इस लापरवाही के कारण आठवी के बाद जब विद्यार्थी नौवी कक्षा में आता है तो उसे बहुत कठिनाई होती है | वह पढाई के बढ़े हुए स्तर से तालमेल नहीं बिठा पाता |

शिक्षकों को भी पता होता है कि विद्यार्थिओं का प्रदर्शन कैसा भी हो उन्हें उत्तीर्ण करना ही है | यदि विद्यार्थी उत्तीर्ण न हो तो उन्हें बार-बार परीक्षा लेना पड़ता है | इसलिए वो जानबूझ कर प्रश्नपत्र आसान बनाते हैं तथा जाँच के समय भी बढ़ा-चढ़ाकर अंक देते हैं | इससे विद्यार्थिओं के खराब अंक लाने की संभावना कम हो जाती है तथा उन्हें बार-बार परीक्षा नहीं लेनी पड़ती | इन सब कारणों से शिक्षा का स्तर तेजी से नीचे गिर रहा है |

सरकार को अब कोई बीच का रास्ता निकालने के लिए पहल करना चाहिए | जिससे बच्चों पर दवाब भी न बढ़े और शिक्षा का स्तर भी न गिरे | प्रतिस्पर्धा के इस युग में शिक्षा का गिरता स्तर हमें बहुत हानि पहुँचा सकता है | साथ ही हम बालमन पर दवाब भी नहीं लाना चाहते | यह देश के शिक्षाविदों की परीक्षा का समय है | उन्हें दोनों बातों को ध्यान में रखकर नयी नीति सुझानी है |

116 Comments

  1. suboohi jafri June 12, 2016
    • Nisha June 21, 2017
    • Aryan July 1, 2017
  2. Tripti August 27, 2016
  3. sanskar September 1, 2016
  4. Siddhi Shah November 11, 2016
  5. kunal kumar December 11, 2016
  6. Ajit February 3, 2017
  7. Amit kumKu February 12, 2017
  8. DEEPAK KUKREJA February 14, 2017
  9. sweta February 20, 2017
  10. Prity February 26, 2017
  11. उत्तम कुमार February 26, 2017
  12. Gautam March 2, 2017
  13. Rekha Sriram March 3, 2017
  14. Aditi Rao March 4, 2017
  15. Manjeet March 5, 2017
  16. SUMIT March 5, 2017
  17. SUMIT March 6, 2017
  18. Kavitha March 6, 2017
  19. dinesh March 7, 2017
  20. Shraddha March 12, 2017
  21. keerthana March 17, 2017
  22. Nishil March 22, 2017
  23. sonu March 28, 2017
  24. Anuj Agarwal March 29, 2017
  25. हेमन्त कुमार वर्मा April 7, 2017
  26. shalini verma soni April 18, 2017
  27. Namrata Damle April 20, 2017
  28. arvind April 22, 2017
  29. arvind April 22, 2017
  30. sanjay kumar maurya April 23, 2017
  31. Poonam Verma April 23, 2017
  32. Katyayni April 24, 2017
  33. manoj markam April 25, 2017
  34. Aviral May 1, 2017
  35. Samiran Ray May 6, 2017
  36. Marina May 11, 2017
  37. Mayaram Dhamaniya May 14, 2017
  38. aditya shekhar May 19, 2017
  39. Dr.Hameeda May 20, 2017
  40. tanu May 21, 2017
  41. Ayush Dixit May 24, 2017
  42. archita May 25, 2017
  43. Archana May 26, 2017
    • Archana May 26, 2017
  44. Gurpreet Kaur June 1, 2017
  45. Gurpreet Kaur June 1, 2017
  46. Muneesh Malik June 1, 2017
  47. Daksham Ahuja June 1, 2017
  48. Daksham Ahuja June 1, 2017
  49. neeraj June 1, 2017
  50. Anamika June 2, 2017
  51. Sujeet jha June 5, 2017
  52. lata bjaj June 5, 2017
  53. sreshta June 10, 2017
  54. sreshta June 10, 2017
  55. aditya raj June 11, 2017
  56. jasnoor June 11, 2017
  57. anu chopra June 11, 2017
  58. Sadija June 11, 2017
  59. dheeraj June 12, 2017
  60. Aman Wadhva June 12, 2017
  61. lakshay garg June 15, 2017
  62. Navpreet kaur June 15, 2017
  63. Paras Khosla June 20, 2017
  64. pragyna June 25, 2017
  65. rahul June 27, 2017
  66. Ratan kunar June 29, 2017
  67. Shaheen June 30, 2017
  68. Muskan verma June 30, 2017
  69. Kay pat... July 2, 2017
  70. Sandeep Yadav July 5, 2017
  71. Ellie July 8, 2017
  72. nhkiyer July 13, 2017
  73. Darshana Patel July 15, 2017
  74. Lakshmi July 16, 2017
  75. divkar mishra July 23, 2017
  76. Vansh July 30, 2017
  77. Sai kale August 3, 2017
  78. Shammi August 4, 2017
  79. ANEESH UTHAMAN August 10, 2017
  80. Ashok patel August 12, 2017
  81. Prince August 12, 2017
  82. vidhi Mehta August 15, 2017
  83. Kamlesh August 17, 2017
  84. Sukheita August 17, 2017
  85. Pranjali August 18, 2017
  86. Sandhya Agarwal August 19, 2017
  87. pinky August 22, 2017
  88. navtesh August 25, 2017
  89. Ashutosh singh September 3, 2017
  90. Sarvesh kumar September 7, 2017
  91. kartik September 7, 2017
  92. Kajal September 9, 2017
  93. D S MEENA September 11, 2017
  94. sruthika September 11, 2017
  95. Sarang pawar September 12, 2017
  96. Sr September 15, 2017
  97. Avinah hedau September 16, 2017
  98. Apeksha September 17, 2017
  99. Aniket September 21, 2017
  100. teju khandagale October 1, 2017
  101. AJAY NAIK October 11, 2017
  102. Anand Kumar Pandey October 16, 2017
  103. Fiza sheikh October 20, 2017
  104. ridhanshi singhal October 25, 2017
  105. safna October 25, 2017
  106. Romi October 26, 2017
  107. Romi October 27, 2017
  108. Maahi Desai October 27, 2017
  109. Noel October 28, 2017
  110. Noel October 29, 2017
  111. Seema November 5, 2017
  112. Nagar mayank November 16, 2017
  113. स्मृति November 19, 2017

Leave a Reply