दशहरा पर निबंध / Essay on Dussehra in hindi

दशहरा हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है जो पूरे भारत में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है | अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को इसका आयोजन किया जाता है | भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था तथा देवी दुर्गा ने नौ रात तथा दस दिन के युद्ध के उपरांत महिषासुर पर विजय प्राप्त किया था | दशहरा को असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है | इसलिए इसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है |

दशहरे का दिन वर्ष के तीन अत्यंत शुभ मुहूर्तों में एक माना जाता है | इस दिन लोग शस्त्रों , वाहनों तथा किताबों की पूजा करते हैं | ऐसा माना जाता है कि दशहरे के दिन आरंभ किए हुए कार्य में सफलता अवश्य मिलती है | इसलिए कोई भी नया कार्य आरंभ करना हो तो इसी दिन आरंभ किया जाता है | प्राचीन काल में राजा इसी दिन विजय की प्रार्थना कर युद्ध के लिए निकलते थे | मराठा रत्न शिवाजी ने भी औरंगजेब के विरुद्ध इसी दिन प्रस्थान करके हिन्दू धर्म का रक्षण किया था | ( Essay on Dussehra in hindi )

दशहरा पर्व को मनाने के लिए जगह-जगह बड़े मेलों का आयोजन किया जाता है | यहाँ लोग अपने परिवार, दोस्तों के साथ आते हैं और खुले आसमान के नीचे मेले का पूरा आनंद लेते हैं | मेले में तरह-तरह की वस्तुएँ, चूड़ियों से लेकर खिलौने और कपड़े बेचे जाते हैं | इसके साथ ही मेले में व्यंजनों की भी भरमार रहती है | इस समय रामलीला का भी आयोजन होता है | इस दिन रावण, उसके भाई कुम्भकर्ण और पुत्र मेघनाद के पुतले जलाए जाते हैं | कलाकार राम, सीता और लक्ष्मण के रूप धारण करते हैं और आग के तीर से इन पुतलों को मारते हैं | पुतले पटाखों से भरे होते हैं और आग लगते ही वह धू-धू कर जलने लगते हैं | उनमें लगे पटाखे फटने लगते हैं और उससे उनका अंत हो जाता है | यह त्योहार बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है |

भारत के विभिन्न राज्यों में दशहरा का त्योहार भिन्न-भिन्न तरीके से मनाया जाता है | हिमाचल प्रदेश में कुल्लू का दशहरा बहुत प्रसिद्ध है | वहाँ के पहाड़ी लोग अपने ग्रामीण देवता का धूमधाम से जुलूस निकाल कर पूजन करते हैं | पंजाब में दशहरा नवरात्रि के नौ दिनों का उपवास रखकर मनाया जाता है | बस्तर में माँ दंतेश्वरी की आराधना के द्वारा दशहरा का त्योहार मनाया जाता है | बंगाल, उड़ीसा और असम में इसे दुर्गापूजा के रूप में मंगाया मनाया जाता है | वहाँ देवियों की भव्य मूर्तियाँ स्थापित की जाती है | सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी के चार दिन माँ दुर्गा की पूजा होती है | इनमें से दशमी के दिन विशेष पूजन होता है | स्त्रियाँ देवी को सिंदूर चढ़ाती हैं तथा आपस में सिंदूर का खेल खेलती हैं | तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में दशहरा नौ दिनों तक चलता है, जिसमें देवी लक्ष्मी, सरस्वती और दुर्गा की पूजा होती है | गुजरात में गरबा नृत्य द्वारा दशहरे का त्यौहार मनाया जाता है | इसमें कुँवारी लडकियाँ सिर पर रंगीन घड़ा रखकर नृत्य करती हैं | महाराष्ट्र में दशहरा के पहले के नौ दिन नवरात्रि के रूप में माँ दुर्गा को समर्पित रहते हैं | कश्मीर में दशहरा के पहले के नौ दिन सिर्फ पानी पीकर उपवास रखे जाने की परंपरा है |

( Essay on Dussehra in hindi ) दशहरे का एक सांस्कृतिक पहलू भी है | भारत कृषि प्रधान देश है | जब किसान अपने खेत में सुनहरी फसल उगा कर अनाज रुपी संपत्ति घर लाता है तो उसकी प्रसन्नता का पारावार नहीं रहता | इस प्रसन्नता के अवसर पर वह भगवान की कृपा को मानता है और उसे प्रकट करने के लिए वह उसका पूजन करता है | दशहरा का पर्व 10 प्रकार के पापों काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद, मत्सर, अहंकार, आलस्य, हिंसा और चोरी के परित्याग की प्ररणा प्रदान करता है | इस तरह दशहरा आनंद का त्योहार है और यह हममें जीवन के प्रति नया उत्साह भरता है |

2 Comments

  1. Shubham gupta October 2, 2017
  2. Nidhi Rastogi October 3, 2017

Leave a Reply