Kavya Chandrika Archive

सम्मिलित (Sammilit)

कवि: सियारामशरण गुप्त क) चलो-चलो, इस अमलतास के …………. परस्पर की माया है | १) प्रस्तुत पद्य खंड किस कविता से लिया गया है ? कवि का परिचय दीजिये | उत्तर: प्रस्तुत पद्य खंड सम्मिलित नामक कविता से लिया गया …

निर्माण (Nirman)

कवि: हरिवंशराय ‘बच्चन’ क) नीड़ का निर्माण फिर-फिर ………………………………… मोहिनी मुस्कान फिर-फिर ! १) प्रस्तुत पद्य खंड किस रचना से लिया गया है ? कवि का परिचय दो | उत्तर: प्रस्तुत पद्यखंड श्री हरिवंशराय ‘बच्चन’ के सतरंगिनी नामक काव्य से …

जीवन का झरना (Jeevan ka jharana)

कवि: आरती प्रसाद सिंह क) यह जीवन क्या है ? ………………………………. समतल में अपने को खींचे | १) प्रस्तुत पद्य खंड किस कविता से लिया गया है ? कवि का परिचय दो | उत्तर: प्रस्तुत पद्य खंड ‘जीवन का झरना’ …

मानवता (Maanavata)

कवि : मैथिलीशरण गुप्त क) विचार लो कि मर्त्य हो ……………………………………. आप-आप ही चरे | १) प्रस्तुत पद्य खंड किस कविता से लिया गया है ? कवि का परिचय दीजिये | उत्तर: प्रस्तुत पद्यखंड ‘मानवता’ नामक कविता से लिया गया …

नीति के दोहे -२ (Niti ke dohe-2)

कवि: रहीम क) रहिमन निज मन की व्यथा …………………………………… पथिक आपु फिरि जाय | १) कवि का परिचय दीजिये | उत्तर: प्रस्तुत दोहे रहीमदासजी की रचना है | उनका पूरा नाम अब्दुर्रहीम खानखाना था | इनकी प्रमुख कृतियाँ हैं – …

नीति के दोहे – १ (Niti ke dohe-1)

कवि: कबीर दास क) कबीर संगति साधु की ………………………. निर्मल करे सुभाय | १) कबीरदासजी साधु की संगति करने को क्यों कहते हैं ? उत्तर: कबीरदासजी कहते हैं कि मनुष्य को जल्दी से आगे बढ़कर साधु पुरुष की संगति कर …

फिर क्या होगा उसके बाद (Fir kya hoga usake baad)

कवि: बालकृष्ण राव क) फिर क्या होगा उसके बाद ? …………………. उस विवाह-उत्सव के बाद | १) प्रस्तुत पद्य खंड किस कविता से लिया गया है ? कवि का परिचय दीजिये | उत्तर: प्रस्तुत पद्य खंड ‘फिर क्या होगा उसके …

राम-सुग्रीव-मैत्री (Ram Sugriv Maitri)

कवि : तुलसीदास क) आगे चले बहुरि रघुराया ………………………………….. लीन्ह मनुज अवतार || १) ऋष्यमूक पर्वत पर कौन रह रहा था ? उत्तर: ऋष्यमूक पर्वत पर किष्किंधा के राजा बालि का भाई सुग्रीव अपने मंत्रिओं तथा सहायकों के साथ रहता …

सूर के पद (Soor ke pad)

कवि: सूरदास क) चरण कमल बंदौ हरिराई ……………………………………… बार-बार बंदौ तेहिं पाई | १) कवि का परिचय दीजिये | उत्तर: सूरदास कृष्ण-भक्ति काव्य के सर्वश्रेष्ठ कवि हैं | इनकी तीन प्रसिद्ध रचनाएँ हैं – ‘सूरसागर’, सूर-सारावली और ‘साहित्यलहरी’ | इनके …

सावन

कवि: सुमित्रानन्दन पंत क) झम-झम झम-झम ………………………………. मेघ गगन में भरते गर्जन | १) उपर्युक्त पंक्तियाँ कहाँ से ली गयी हैं ? कवि का परिचय दो | उत्तर: उपर्युक्त पंक्तियाँ ‘सावन’ नामक कविता से ली गयी है | इसके कवि …