आप के जीवन का उद्देश्य क्या है ? आज से पंद्रह वर्ष बाद की कल्पना करते हुए बताइए कि आप स्वयं को कहाँ और किस रूप में देखना चाहते हैं | ( What is your goal in life )

मुझे बचपन से कंप्यूटरों से बहुत लगाव रहा है | शुरुआत में मैं कंप्यूटर का उपयोग सिर्फ खेलने के लिए करता था लेकिन धीरे-धीरे मेरी जिज्ञासा जागृत हुई | कंप्यूटर कैसे काम करता है, उसमें इतने सारे प्रोग्राम कैसे चलते हैं, यह जानने की मेरी तीव्र इच्छा थी | मैं घंटों बैठकर गुगल में इस बात की जानकारी इकट्ठा करता | कम्यूटर के प्रति अपने इस आकर्षण के कारण मैनें इस बात का निश्चय कर लिया है कि मैं बड़ा होकर कंप्यूटर प्रोग्रामर बनूँगा | यही मेरे जीवन का उद्देश्य है |

मैनें पता लगा लिया है कि एक कंप्यूटर प्रोग्रामर बनने के लिए मुझे क्या करना है | मुझे दसवी कक्षा में अच्छे अंक लाने है ताकि ग्यारहवी में मैं विज्ञान संकाय (science stream) में प्रवेश ले सकूँ | बारहवी के बाद इंजीनियरिंग की प्रतियोगी परीक्षा होती है | उस प्रतियोगी परीक्षा में अच्छे अंक लाकर आय आय टी (IIT) या एन आय आय टी (NIIT) से कंप्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग करना है | मुझे पता है आय आय टी और एन आय आय टी में प्रवेश कितना मुश्किल होता है पर मैं मानसिक रूप से इसके लिए तैयार हूँ | मैं अभी से कड़ी मेहनत कर रहा हूँ ताकि मैं गणित और विज्ञान में अच्छे अंक लाता रहूँ | आय आय टी और एन आय आय टी में प्रवेश के लिए यही दो विषय महत्वपूर्ण होते हैं |

कंप्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग करने के बाद मैं उसी में उसी क्षेत्र में अनुसंधान (research) करूँगा | मैं कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र को और विकसित करूँगा | आज से पंद्रह वर्ष बाद मैं अपने आप को एक सफल कंप्यूटर प्रोग्रामर और एक प्रसिद्ध कंप्यूटर वैज्ञानिक के रूप में देखना चाहता हूँ | गुगल, ट्विटर, फेसबुक के संस्थापकों ने जिस तरह अपनी प्रसिद्ध वेबसाइटें बनाई हैं, मैं चाहता हूँ कि मेरी भी वैसी ही एक प्रसिद्ध  वेबसाइट हो | करोड़ों अरबों लोग उस वेबसाइट का प्रयोग करे और लाभ उठायें | यदि मैं ऐसा करने में सफल हो जाता हूँ तो मैं आर्थिक रूप से भी समृद्ध हो जाऊँगा | इसके अलावा मैं अपने विषय में इतना योग्य बनना चाहता हूँ कि बड़े-बड़े कंप्यूटर साइंस के महाविद्यालयों से मुझे लेक्चर के लिए आमंत्रण मिले | कंप्यूटर साइंस के विश्व प्रसिद्ध कांफ्रेंसों में बोलने का मुझे अवसर मिले |

मेरी यह भी इच्छा है कि मैं अपनी इस विद्वता से अपने देश का हित करूँ | सरकार सूचना और प्रोद्योगिकी (IT) से सम्बंधित जो नीतियाँ बनाती हैं वो बनाने में मैं उनकी सहायता करूँगा | देश में सूचना और प्रोद्योगिकी क्रांति लानी है, इसमें मैं अपना हरसंभव योगदान दूँगा | कंप्यूटरों के प्रयोग को देश में लोकप्रिय बनाउँगा | देश के हर एक व्यक्ति को कंप्यूटर साक्षर बनाने का प्रयत्न करूँगा |

इस तरह मैनें अपने जीवन का उद्देश्य ऐसा बना रखा है जिससे मुझे मानसिक संतुष्टि मिले, प्रसिद्धि मिले, मैं ज्यादा से ज्यादा धन अर्जित कर सकूँ, अपने देश की सेवा कर सकूँ और देश के लोगों को खुशहाल बना सकूँ | मुझे पता है कि मेरा यह लक्ष्य बहुत कठिन है | मुझे इसके लिए कठोर परिश्रम करना पड़ेगा | मैनें अभी से प्रयत्न शुरू कर दिया है | अपनी पूरी इच्छशक्ति और लगन से मैं लगा हुआ हूँ | उम्मीद है मुझे मेरे उद्देश्य में अवश्य सफलता मिलेगी |

2 Comments

  1. chandra August 25, 2016
    • Rajnish Goswami May 28, 2017

Leave a Reply